Narmada Manav

लखीमपुर खीरी में कोई घटना के बाद पूरे देश में सियासी पारा चढ़ गया है सारी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने निशाने साध रही हैं वहीं लखीमपुर खीरी में जिस मंत्री के बेटे की गाड़ी के द्वारा किसान को कुचलकर मारने की बात की जा रही है, उस मंत्री के बारे में काफी ही रोचक तथ्य मालूम चले हैं।

लखीमपुर खीरी में 4 किसानों समेत 8 लोगों की मृत्यु के बाद सांसद तथा केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी काफी चर्चा में आ गए हैं। अजय मिश्र टेनी आज से केवल 9 साल पहले ही अर्थात 2012 में ही विधायक बने थे और इसके 9 साल बाद मतलब 2021 में ही वह केंद्रीय गृह राज्यमंत्री बन गए।

अजय मिश्र टेनी 2012 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट से निघासन विधानसभा क्षेत्र के विधायक के रुप में चुनकर आए और इसके 2 साल बाद उनको 2014 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट से लोकसभा चुनाव लड़ने की अनुमति मिली और वह खीरी लोकसभा क्षेत्र से सांसद के रूप में निर्वाचित हुए और फिर 2021 में हुए मंत्रिमंडल विस्तार में उन्होंने केंद्रीय राज्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

कितनी संपत्ति के मालिक हैं – अजय मिश्र टेनी ने चुनाव आयोग को दिए गए 2019 लोकसभा चुनाव के हलफनामे में अपने पास 4.5 करोड़ की चल व अचल संपत्ति का विवरण प्रदान किया था।

हम आपको बता दें कि किसानों की और भारतीय जनता पार्टी के प्रति नाराजगी नाराजगी लगातार चल ही रही है इसके बाद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र द्वारा गाड़ी से कुचल कर किसानों के मारे जाने की बात को लेकर किसानों में काफी ज्यादा आक्रोश है इसके बाद भारतीय जनता पार्टी का शीर्ष नेतृत्व से लेकर के पूरी भाजपा फिर से सक्रिय हो गई है और जैसे तैसे उन्होंने किसान आंदोलन को समाप्त करने का जो प्रयास किया था वह किसान आंदोलन हो या किसानों की नाराजगी को भारतीय जनता पार्टी के प्रति लगातार बढ़ती जा रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here