Narmada Manav

पश्चिम बंगाल में सत्ता हासिल करने पर गांगुली को उपमुख्यमंत्री बना सकती है बीजेपी, दिलीप घोष हो सकते हैं मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

कोलकाता। ओपिनियन पोल में बंगाल में बीजेपी के पिछड़ने की तमाम आशंकाओं के बीच पार्टी ने अपना तुरुप का इक्का खोलने का निर्णय कर लिया है। खबर है कि 7 मार्च को बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गांगुली के साथ बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती और प्रसन्नजीत रॉय भी बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। 

दरअसल 7 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी कोलकाता के परेड ग्राउंड में रैली करने वाले हैं। इसी रैली के दौरान सौरव गांगुली बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। मोदी की मौजूदगी में ही मिथुन भी बीजेपी जॉइन कर सकते हैं। हालांकि अब तक सौरव गांगुली और बीजेपी दोनों ही उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलों को खारिज करते हुए आ रहे थे, लेकिन अब खुद बीजेपी के पार्टी सूत्र मीडिया में इस बात की पुष्टि कर रहे हैं कि सौरव बीजेपी के कुनबे में शामिल होने जा रहे हैं। 

सौरव गांगुली को अपने पाले में करने की कोशिश बीजेपी ने डेढ़ साल पहले ही शुरू कर दी थी। सौरव गांगुली को अक्टूबर 2019 में बीसीसीआई का प्रेसिडेंट बना दिया गया था। इसके बाद अमित शाह के बेटे जय शाह को बोर्ड का सचिव नियुक्त किया गया। तभी से इस बात को लेकर चर्चा थी कि जय शाह गांगुली को बीजेपी में शामिल करने की मुहिम को अंतिम रूप देने की कोशिश कर रहे हैं। 

लेकिन दावों का दौर गांगुली के सिर्फ बीजेपी में शामिल होने पर नहीं समाप्त हो रहा है। कहा यह भी जा रहा है कि बीजेपी अगर बंगाल में सत्ता हासिल करने में कामयाब हो जाती है तो गांगुली को उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। हालांकि ऐसी स्थिति में गांगुली सिर्फ इकलौते डिप्टी सीएम नहीं होंगे, बल्कि टीएमसी छोड़ बीजेपी में आए शुभेंदु अधिकारी को भी उपमुख्यमंत्री बनाया जाएगा। बीजेपी उत्तर प्रदेश की तर्ज पर ही दो उपमुख्यमंत्री बनाए जा सकते हैं। 

मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर भी तस्वीर लगभग स्पष्ट हो चुकी है। बीजेपी बंगाल के अध्यक्ष दिलीप घोष पार्टी के सीएम के चेहरे होंगे। हालांकि बीजेपी चुनावों में दिलीप घोष का चेहरा मुख्यमंत्री के तौर पर आगे रखेगी या नहीं, इस पर भी सस्पेंस बरकरार है। वहीं ममता बनर्जी ने इस मर्तबा भवानीपुर के अलावा नंदीग्राम से भी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। ममता के खिलाफ भवानीपुर से बीजेपी अपने सांसद बाबुल सुप्रियो को चुनावी मैदान में उतार सकती है। वहीं शुभेंदु अधिकारी नंदीग्राम से ममता के खिलाफ चुनाव लड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here