Narmada Manav

राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा है कि बहुत लोग ऐसे हैं जो निडर हैं, लेकिन कांग्रेस से बाहर हैं, ऐसे लोगों को पार्टी में लाओ और डरपोकों को बाहर करो।

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का एक बयान सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें राहुल गांधी कहते देखें रहे हैं कि निडर लोगों को कांग्रेस पार्टी में लाओ। इतना ही नहीं राहुल ने ये भी कहा है कि जो लोग डर रहे हैं, हमें उनकी कोई जरूरत नहीं है। उन्हें पार्टी से बाहर निकालो, ये आरएसएस के लोग हैं। राहुल का यह बयान देश के सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

दरअसल, राहुल गांधी शुक्रवार को कांग्रेस के करीब 3500 कार्यकर्ताओं को एक ज़ूम मीटिंग के जरिए संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘बहुत सारे लोग हैं जो डर नहीं रहे हैं। वे कांग्रेस के बाहर हैं। उनको अंदर लाओ और जो हमारे यहां हैं लेकिन डरपोक हैं उन्हें बाहर निकालो। चलो भैया जाओ। आरएसएस के हो, जाओ भागो, मजे लो। हमें जरूरत नहीं है तुम्हारी। हमें निडर लोग चाहिए। ये हमारी आइडियोलॉजी है। यही आपलोगों को मेरा बुनियादी संदेश है।’

राहुल गांधी के इस बेबाक बयान पर देशभर में तरह-तरह की टिप्पणियां आ रही है। कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने उनके इस अंदाज की सराहना की है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राहुल गांधी का यह बयान काफी मायने रखता है। क्योंकि राहुल चाहते हैं कि कांग्रेस निडर होकर बीजेपी का सामना करे। उन्होंने कार्यकर्ताओं को कांग्रेस की विचारधारा याद दिलाई जो हमेशा आरएसएस की सांप्रदायिक राजनीति की विरोधी रही है।’

वहीं राहुल के इस बयान पर दिग्गज कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा है कि राहुल जी, यदि आपने कांग्रेस में यह लागू कर दिया तो कांग्रेस जिंदा हो जाएगी।’ सिंह ने इसके साथ ही कमलनाथ का भी एक बयान कोट किया है जिसमें उन्होंने कहा था कि कांग्रेस को रेस के घोड़े चाहिए, शादी के घोड़े नहीं।

राजनीतिक जानकार राहुल गांधी के इस बयान को टाइमिंग की वजह से काफी अहम मान रहे हैं। माना जा रहा है कि उन्होंने बगावत कर बीजेपी में जाने वालों को सख्त संदेश देते हुए कहा है कि कांग्रेस में उन जैसे लोगों की आवश्यकता नहीं है, जो मौका देखकर पाला बदल लेते हैं। हाल ही में ज्योतिरादित्य सिंधिया व जितिन प्रसाद जैसे लोगों ने पार्टी छोड़कर बीजेपी जॉइन कर लिया है। ऐसे में माना जा रहा है कि राहुल कार्यकर्ताओं को यह संदेश देना चाह रहे हैं कि पार्टी की विचारधारा किसी व्यक्ति विशेष से ऊपर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here