Narmada Manav

मप्र का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। आज इस सत्र का दूसरा दिन है। इसकी कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरू हुई। हाल ही में उत्ताखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से और सीधी बस हादसे में मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि दी गई। साथ ही विधानसभा में पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा, पूर्व राज्यसभा सदस्य कैलाश सारंग, विधानसभा के पूर्व सदस्य लोकेंद्र सिंह, गोवर्धन उपाध्याय, श्याम होलानी, बद्रीनारायण अग्रवाल, कैलाश नारायण शर्मा, विनोद कुमार डागा, कल्याण सिंह ठाकुर समेत 26 पूर्व केंद्रीय मंत्रियों और विधानसभा के पूर्व सदस्यों को भी श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद सत्र में जकर हंगामा हुआ।

कांग्रेस ने किसानों को श्रद्धांजलि न देने पर किसानों का अपमान बताया। कांग्रेस के पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि किसान देश के अन्नदाता हैं। यदि आंदोलन के दौरान किसान की मौत होती है और उसे श्रद्धांजलि नहीं दी जाती है तो यह अन्नदाता का अपमान है। इसके बाद हंगामा काफी बढ़ गया। हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने सत्र की कार्यवाही मात्र 1 घंटे के बाद ही अगले दिन के लिए स्थगित कर दिया।

कोरोना निमयों के पालन के साथ चल रहा सत्र 

बता दें कि इस साल का बजट सत्र सोमवार को शुरू किया गया था। इस दिन विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए गिरीश गौतम का चुनाव हुआ। इसके बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का अभिभाषण संपन्न हुआ। कोरोना महामारी के कारण इस सत्र में सभी को नियमों का पालन करना होगा। कोरोना गाइडलाइन के तहत बाहरी लोगों का विधानसभा परिसर में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। यहां  मंत्रियों के साथ एक व्यक्ति को प्रवेश की अनुमति रहेगी। यहां आने वाले लोगों को मास्क के साथ 6 फीट की शारीरिक दूरी भी बनाकर रखनी होगी। जो विधायक स्वस्थ नहीं हैं वे सभी वीडियो कॉन्फ्रॉंसिंग के जरिए सत्र में हिस्सा लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here