Narmada Manav
खगोलीय घटना 4 साल बाद फिर 2 दिन 60 सेकंड के लिए गायब होगा साया।सूर्य इस साल 2 दिन तक उत्तरी गोलार्ध में कर्क रेखा पर लंबवत होगा धुरी पर लहराती पृथ्वी की गति में अंतर के कारण यह स्थितियां बनती है सूर्य की कांति में आंशिक अंतर होने से 21 22 जून को दोपहर 12:28 पर अधिकतम 60 सेकंड के लिए परछाई शून्य हुई ।4 साल बाद लगातार दो दिन तक परछाई गायब होने का यह खगोलीय संयोग बना है। शासकीय जीवाजी वेधशाला उज्जैन के अधीक्षक डॉ राजेंद्र प्रसाद गुप्त ने बताया कि इसके पहले 2015 में 2 दिन तक परछाई शून्य होने की घटना हुई थी। वर्तमान में कर्क रेखा की स्थिति 23 डिग्री 26 मिनट 3 सेकंड ,उत्तरी अक्षांश पर है। 21 जून को सूर्य की कांति 23 डिग्री 26 मिनट 3 सेकंड उत्तर एवं 22 जून को सूर्य की कांति 23 डिग्री 26 मिनट 7 सेकंड होगी।इस कारण इस वर्ष सूर्य की चरम स्थिति 22 जून को रहेगी। उज्जैन कर्क रेखा के नजदीक स्थित है इसलिए 21 ,22 जून को दोपहर 12 बजकर 28 मिनट पर सूर्य की किरणें लंबवत होने के कारण परछाई पूरी तरह शून्य हो जाएगी। उज्जैन वेधशाला में दोपहर 12:28 पर शंकू यंत्र से इस खगोलीय घटना को ज्यादा स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है ।21 ,22 जून को सूर्य अपने अधिकतम उत्तरी बिंदु कर्क रेखा पर होने के कारण उत्तरी गोलार्ध में दिन सबसे बड़ा और रात सबसे छोटी होती है ,21 ,22 जून को सूर्योदय सुबह 5बजकर 42 मिनट पर और सूर्यास्त 7 बजकर 16 पर होगा ।दिन की अवधि 13 घंटे 34 मिनट और रात की अवधि 10 घंटे 26 मिनट होगी । 22 जून के बाद सूर्य की दक्षिणी की और गति शूरु हो जाएगी। 22 जून के बाद धीरे-धीरे दिन छोटे और रात की अवधि बढ़ने लगेगी। गांव हाजीपुर में एक लोहे की रॉड को जमीन में गाड़कर इस खगोलीय घटना को 12:27 से 12:29 तक केमरा चालू रखा फिर ठीक 12 बजकर 28 मिनट पर उस राड की परछाईं लूप्त हो गई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here