15 दिन में 21 हजार किसानाें से गेंहू खरीदी,22 दिन में 57 हजार किसान प्रतीक्षा में खरीदी का संकट बढेगा

0
228
Narmada Manav

हाेशंगाबाद। किसानों के पास समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए सिर्फ 22 दिन का समय बचा है। जिले में बनाए गए 204 खरीद केन्द्रों पर गेहूं बेचने के लिए 57 हजार किसान कतार में हैं। धीमी गति से हो रही खरीद व शासन स्तर से आने वाले मैसेज किसानों की समस्या बढ़ा रहे हैं। आने वाले दिनों में यह समस्या और बढ़ेगी। लेकिन इससे निपटने की काेई तैयारी नहीं है। इसी का नतीजा है कि केन्द्र शुरू होते ही उन पर किसानों की लाइनें लगना शुरू हो गई हैं।

बता दें कि जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए 78 हजार 440 किसानों ने अपना पंजीयन कराया है। प्रशासन 204 खरीद केन्द्रों के माध्यम से अब तक सिर्फ 21 हजार किसानों का 26 लाख क्विंटल गेहूं खरीद सका। यानि 57 हजार 440 किसान अब भी गेहूं बेचने के लिए कतार में हैं। औसत रूप से देखें तो एक केन्द्र पर अब तक सिर्फ 100 किसानों का गेहूं ही खरीदा जा सका है। जबकि पंजीयन की संख्या का औसत आंकड़ा 380 पर पहुंचता है।



केवल 22 दिन ही हो सकेगी खरीदी

25 मार्च से 23 मई तक गेहूं की खरीद की जाना है। चूंकि शासन के निर्देश हैं कि शनिवार व रविवार को केन्द्र बंद रहेंगे। ऐसे में 8 दिन यानि , 27 और 28 अप्रैल, 4, 5, 7, 12, 18, 19 मई को गेहूं की खरीदी नहीं होगी। इन तारीखों में शनिवार और रविवार के अलावा सात मई को अक्षय तृतीया, 18 मई को बुद्ध जन्मोत्सव का अवकाश रहेगा। इसलिए केंद्रों पर अवकाश रहेगा। कुल 22 दिन ही खरीद की जाएगी।

204 केंद्रों पर 26 लाख क्विंटल की खरीद

बता दें कि 204 खरीद केन्द्रों पर अब तक 21 हजार किसानों ने कुल 26 लाख क्विंटल गेहूं की ही खरीद हो सकी है। जिले को 8 लाख 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं खरीद का लक्ष्य मिला है। 22 दिन में लक्ष्य को पूरा करने के नाम पर केन्द्रों पर मनमानी का दौर शुरू होगा।

सभी का गेहूं खरीदा जाएगा

बता दें कि जिला प्रशासन ने इस साल खरीद केन्द्र बनाने में भेदभाव किया है। बीते साल जिन स्थानों पर केन्द्र थे, वहां से हटा कर अन्यत्र खोल दिए गए। जिससे किसानों ने विराेध भी कर दिया। जिला प्रशासन के भेदभाव करते हुए केन्द्र को हटाने की बात कही जा रही है। हालाकि प्रशासन ने सभी किसानाें से गेंहू खरीदने की बात कही है। कलेक्टर अपने निवास पर हर दिन समीक्षा कर रहे है। परिवहन अाैर भुगतान काे लेकर अमला सर्किय है। पर खरीदी काे लेकर डीएसअाे विनाेद चाैहान का दावा है। सभी किसानाें की खरीदी समय पर हाे जाएगी।

बड़ा सवाल: 22 दिन में कैसे खरीदेंगे 57 हजार किसानों का गेहूं

बता दें कि शासन से 25 मार्च से केन्द्रों पर खरीद शुरू करने के निर्देश दिए थे। चूंकि जिले में गेहूं की देर से कटाई होती है, इसलिए जिले में 5 अप्रैल के बाद ही केन्द्र शुरू हुए। यानि खरीद केन्द्र शुरू हुए लगभग 15 दिन का समय हो चुका है। केन्द्रों के पास अब 22 दिन और खरीद के लिए शेष बचे हैं। 15 दिन में एक केंद्र से औसतन 100 किसानों का माल खरीदा जा सका है तो बड़ा सवाल यह है कि 22 दिन में सैकड़ों किसानों का गेहूं कैसे खरीदा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here