Narmada Manav
होशंगाबाद मंगलवारा घाट स्थित शिव मंदिर में 7 दिनों से चल रही मत्स्य पुराण का बुधवार को समापन हो गया समापन अवसर पर प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री और होशंगाबाद जिला प्रभारी पीसी शर्मा भी उसमें शामिल हुए गंगा दशहरे के परम पावन अवसर पर मत्स्य पुराण विश्राम दिवस की कथा में आचार्य पंडित अजय दुबे जी ने गृह याग का विधान की कथा के साथ ही अंग स्फुरण के शुभाशुभ फल शुभ स्वप्नों के लक्षण के साथ ही बामण प्रादुर्भाव प्रसंग में श्री भगवान द्वारा आदिति को वरदान की कथा के साथ बली द्वारा भगवान विष्णु की निंदा करने पर प्रह्लाद जी के द्वारा उन्हें श्राप देने की कथा के माध्यम से उपस्थित श्रद्धालुओं को बताया कि अपने जीवन में कभी भी सत्कर्म का हमें अभिमान नहीं होना चाहिए सत्कर्म श्रेष्ठ कार्य को करते हुए व्यक्ति को अभिमान रहित होना चाहिए क्योंकि अभिमान व्यक्ति को अधोगति की ओर ले जाता है सत्कर्म का संपूर्ण फल प्राप्त कर करना है तो निराभिमान होकर निष्काम भाव से सत्कर्म करते रहना चाहिए इसी के साथ वास्तु के प्रादुर्भाव की कथा को भी श्रवण कराया बताया कि वास्तु की अनुकूलता ना होने पर जीवन में कई बार कष्ट सहन करने पड़ते हैं हमारे जीवन में वास्तु का विशेष महत्व है जिस घर में हम रहते हैं उस घर का निर्माण वास्तु के अनुसार अगर नहीं हुआ है तो घर में अशांति का वातावरण रहता है वास्तु दोष होने पर प्रगति और उन्नति के मार्ग में बाधाएं उत्पन्न होती हैं इसलिए वास्तु को अनुकूल करने के लिए मत्स्य पुराण में इस प्रकार उल्लेख आया है की व्यक्ति अपने भवन में नित्य भगवान शिव का पूजन भक्ति भाव से करता है तो वास्तु से आशीर्वाद प्रदान करके उसके कष्टों को हर ते हैं तथा उसकी प्रगति उन्नति में सहायक होते हैं तथा पंच वृक्षों की सेवा के विषय में भी विस्तार से कथा श्रवण कराते हुए प्राणवायु प्रदान करने वाले वृक्षों को रोपित करने के लिए कहा बताया कि मानव जीवन में वृक्षारोपण परम आवश्यक है वृक्ष को रोपित करने के बाद वृक्ष की रक्षा भी करना चाहिए आप वृक्ष की रक्षा करेंगे तो वृक्ष आपकी रक्षा करेंगे प्रकृति की आराधना करने पर परमात्मा प्रसन्न होते हैं इसलिए वृक्षारोपण परम आवश्यक है कथा के यजमान श्री जगदीश राजोरिया जी श्रीमती लक्ष्मी राजोरिया श्रीमती चित्रा शर्मा जी सहित उपस्थित श्रद्धालुओं को वृक्षारोपण करने का संकल्प दिलाया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here