Narmada Manav


भारतीय कारोबारी और आईपीएल की टीम किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के सह-मालिक नेस वाडिया को जापान की एक कोर्ट ने ड्रग्स रखने के आरोप में 2 साल की सजा सुनाई है। नेस को इस साल मार्च में उत्तरी जापानी द्वीप होक्काइडो के न्यू चिटोज़ हवाई अड्डे पर गिरफ्तार किया गया था। उसके बाद से उन्हें अज्ञात जगह पर नजरबंद रखा गया था। वाडिया की पैंट की जेब में करीब 25 ग्राम कैनेबिस रेज़िन पाई गई।

एनएचके के एक स्थानीय होक्काइडो स्टेशन की रिपोर्ट में कहा गया है कि नेस वाडिया की जेब में ड्रग्स होने की पुष्टि स्निफर डॉग ने की। 47 साल के नेस वाडिया, ग्रुप के चेयरमैन नुस्ली वाडिया के सबसे बड़े बेटे हैं, जो कि फोर्ब्स के अनुसार, करीब 7 अरब डॉलर की कुल संपत्ति के साथ भारत के सबसे अमीर कारोबारियों में शामिल हैं।

नेस, वाडिया समूह की सभी यूनिट्स के निदेशक हैं। इसी समूह को 1736 में ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए जहाज बनाने का मसौदा मिला था। अब वाडिया समूह बिस्किट कंपनी ब्रिटेनिया और बजट एयरलाइन गो-एयर के कारोबार में भी शामिल हैं। इसके सूचीबद्ध संस्थाओं का कुल बाजार मूल्य 13।1 अरब डॉलर है। साप्पोरो की अदालत में नेस वाडिया ने यह स्वीकार किया कि यह दवा उनके निजी इस्तेमाल के लिए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here