Narmada Manav

हाेशंगाबाद। चना खरीदी के पहले दिन किसानों में असंतोष देखा गया। किसानों ने बताया एक किसान से एक दिन में 25 क्विंटल ही चना खरीदा जा रहा है। केंद्र प्रभारियों का तर्क है साफ्टवेयर 25 क्विंटल से अधिक का बिल नहीं ले रहा है। इससे किसानों पर आर्थिक भार आएगा। वही दूसरी खेप के लिए भी कोई दिशा निर्देश नहीं आए हैं। गत वर्ष एक दिन में एक किसान से 40 क्विंटल तक खरीदी के निर्देश दिए थे। किसान कपिल मेहर ने कहा कि ट्राली में 35-40 क्विंटल उपज आती है। एेसे में हमें 15 क्विंटल चना वापस घर ले जाना पड़ेगा। या फिर कम भाव में भेजने की विवशता होगी। वहीं 90-100 क्विंटल चना पंजीयन वाले किसानों को 3-4 फेरी लगाना पड़ेगी। इससे ईधन, समय और किराए का भार उठाना पड़ेगा।


ताबड़तोड़ शुरू हुई खरीदी

समर्थन मूल्य पर चना खरीदी ताबडताेड तरीके से शुरू हाे गई। दरअसल 28 मार्च से शुरू होने वाले उपार्जन केंद्रों पर 21 अप्रैल तक खरीदी शुरू नहीं होने से अंसतोष बढ़ रहा था। जिले में ताबड़तोड़ 90 से ज्यादा किसानों को मोबाइल पर मैसेज कर केंद्रों पर चना लाने की सूचना दी। 232 अप्रैल को शादी ब्याह समारोह की अधिकता के कारण बमुश्किल दाे दर्जन किसान चना लेकर उपार्जन केंद्र पहुंचे। केंद्रों पर करीब 900 क्विंटल चना समर्थन मूल्य पर खरीदा।

24 अप्रैल के हैं मैसेज

चना खरीदी के लिए किसानों को 24 अप्रैल के मैसेज आए है। लेकिन अचानक पोर्टल खुलने और प्रशासनिक निर्देश के चलते संपर्क में रहने वाले किसानों को केंद्र प्रभारियों ने व्यवहार में बुलाकर उनका चना तौल दिया। बुधवार को भी यही सिस्टम अपनाया जा सकता है। बुधवार को मैसेज मिलने पर किसानों के स्वयं केंद्रों पर पहुंचने की संभावना है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरसों और चने की खरीद के लिए 11 हजार से ज्यादा किसानों ने रजिस्ट्रेशन करवा लिया है. इसके अलावा कृषि विभाग ने किसानों की खरीद की मात्रा को लेकर भी पत्र लिखा है. केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद में एक काश्तकार से प्रतिदिन की खरीद 25 से बढाकर 40 क्विंटल कर दी जाएगी. उपज खरीद के लिए बारदाना और उसे गोदाम तक पहुंचाने की व्यवस्थाओं में विभाग जुटा हुआ है.विभाग कोशिश है कि खरीद के दौरान किसानों को किसी तरह की समस्या नहीं आने दी जाए.


11 हजार किसानों ने पंजीयन कराया
राेज 25 क्विं. से ज्यादा नहीं खरीद सकते

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here